yogi adityanath उत्तर प्रदेश की जनता के दिलों में बसते हैं

yogi adityanath को अस्थिर करने का प्रयास पड़ रहा है भारी – राजनीतिक विश्लेषक डॉ.रवींद्र शुक्ला एडवोकेट वर्ष 2024 लोकसभा स्थितियों पर आकलन करने के बाद एक राजनीतिक विश्लेषक के तौर पर अपना पक्ष रखते हुए अवगत कराना चाहता हूं की

 

दिनांक 19 मार्च 2017 दिन रविवार को उत्तर प्रदेश जैसे विशाल प्रदेश की कमान गोरखनाथ मठ के पीठाधीश्वर महंत yogi adityanath जी को मिली और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने ,प्रदेश की शपथ लेने के बाद लोगों के दिल और दिमाग में योगी बसने लगे प्रदेश योगी जी की कार्यशैली, दिशा निर्देशन में उत्तर प्रदेश आगे बढ़ता जा रहा है

Whatsapp Group join
Please Join Whatsapp Channel
Please Join Telegram channel

 

 

विशाल राज्य की कमान एक yogi adityanath को मिलने से जिनके नाम मैं नहीं लिख रहा हु

उत्तर प्रदेश के प्रत्येक आम आदमी यहां तक की अंतिम पायदान पर खड़े प्रत्येक व्यक्ति को यह अहसास होने लगा था की हमारे दिन बदलने वाले हैं कोई अपना है जो हमारी सुनता है चारों तरफ सिर्फ विकास ही विकास दिखाई दे रहा था लेकिन उत्तर प्रदेश जैसे विशाल राज्य की कमान एक योगी को मिलने से जिनके नाम मैं नहीं लिख रहा हु उनको यह सब नागवार गुजर रहा है

 

International Yoga Day गंगा की रेत पर बही योग की धारा, उमड़ा जन सैलाब

 

लगातार बढ़ती जा रही yogi adityanath की लोकप्रियता से कुछ बड़े चेहरे लगातार घबराते जा रहे हैं

लगातारyogi adityanath को अस्थिर करने का प्रयास किया जाता रहा है वर्ष 2021 में भी योगी आदित्यनाथ जी को अस्थिर करने का प्रयास किया गया लगातार ना जाने क्यों यह प्रयास किया जा रहा है जबकि यदि उत्तर प्रदेश के प्रधान सेवक योगी जी को नजअंदाज किया गया तो यह उत्तर प्रदेश की जनता जिनके दिलों में योगी आदित्यनाथ जी वस्ते है

 

उनके दिलों को तोड़ने जैसा साबित होगा और टूटे दिल से कोई काम नहीं होते यानी कहूं की भाजपा के लिए उत्तर प्रदेश की रहा 2027 में अत्यधिक कठिन हो जाएगी अभी भी वक्त है एक प्रयास शीर्ष नेतृत्व एवम योगी आदित्यनाथ जी को चाहने वालों के लिए किया जा रहा है

 

यह सच है कि भारतीय जनता पार्टी को आशा के अनुरूप परिणाम प्राप्त नहीं हुए अनेकों राजनीतिक जानकार अपने-अपने तरीके से राजनीतिक विश्लेषण कर रहे है लेकिन एक एडवोकेट एवं राजनीतिक विश्लेषक के तौर पर यह कहने में मुझे बिल्कुल भी गुरेज नहीं है की

 

yogi adityanathकी कार्य कुशलता, जनमानस के प्रति अपार प्रेम,एक अंतिम व्यक्ति की आशा है योगी आदित्यनाथ जी
यदि शीर्ष नेतृत्व द्वारा योगी आदित्यनाथ जी को नजअंदाज किया गया तो भाजपा के लिए आने वाले सभी परिणाम निश्चित रूप से निराशाजनक होंगे यानी संक्षेप में इतना ही कह सकता हूं उत्तर प्रदेश की मांग है एवम आम व्यक्ति की पुकार है योगी ।

 

लेखक
डॉ.रवींद्र शुक्ला एडवोकेट
सोशल रिफॉर्मर
प्रवक्ता एवं राजनीतिक विश्लेषक

Leave a Comment