Ramlala की पहली झलक दिखी… जानिए कैसे दिखते हैं बालरूप धरे

Ramlala  को देखने को आतुर श्रद्धालुओं को थोड़ा चैन तो शुक्रवार को ही आ गया जब बालरूप धरे रामलला की स्यामल मनोहर छवि सामने आ गई इस प्रतिमा के देखत ही वह सारे रूप वह सारी व्याख्याएं एक.एक कर साकार सी होने लगीं जिसका वर्णन संतों.कवियों ने अपने.अपने राम की छवि को गढ़ने में किया है वह इस मूर्ति के निर्माण के दौरान की संपूर्ण तस्वीर है। राम मंदिर के गर्भगृह में स्थापित इस मूर्ति को मैसूर (कर्नाटक)के मूर्तिकार अरुण योगीराज ने तैयार किया है।
भगवान राम की नई मूर्ति बृहस्पतिवार की दोपहर राम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह में रखी गई।  51 इंच की Ramlala की मूर्ति को बुधवार की रात मंदिर में लाया गया था। भगवान राम की मूर्ति को पूरे वैदिक मंत्रोचार के बीच गर्भ गृह में रखा गया।

अयोध्या। सोशल मीडिया पर Ramlala के चेहरे वाली एक संपूर्ण तस्वीर सामने आई है।

इसमें रामलला की पूरी छवि स्पष्ट नजर आ रही है। यह तस्वीर मूर्ति के निर्माण के दौरान की है। हालांकि बृहस्पतिवार को जब रामलला को गर्भगृह में स्थापित किया गया उस वक्त उनकी प्रतिमा पर कपड़े की पट्टी लिपटी हुई थी और उनका चेहरा ढंका हुआ था। 22 जनवरी को होनेवाले प्राण प्रतिष्ठा समारोह के दौरान उनके चेहरे की पट्टी हटाई जाएगी।Pilibhit में राम मय हुईं शहर की सड़कें, डॉ आस्था अग्रवाल अध्यक्ष नगर पालिका ने निकाली रथयात्रा

कर्नाटक के मूर्तिकार अरुण योगीराज ने बनाई है Ramlala प्रतिमा

Ramlala की पहली झलक दिखी... जानिए कैसे दिखते हैं बालरूप धरे
Ramlala की पहली झलक दिखी… जानिए कैसे दिखते हैं बालरूप धरे

दरअसल, आज जो तस्वीर सामने आई है वह इस मूर्ति के निर्माण के दौरान की संपूर्ण तस्वीर है। राम मंदिर के गर्भगृह में स्थापित इस मूर्ति को मैसूर (कर्नाटक)के मूर्तिकार अरुण योगीराज ने तैयार किया है। भगवान राम की नई मूर्ति बृहस्पतिवार की दोपहर राम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह में रखी गई।  51 इंच की रामलला की मूर्ति को बुधवार की रात मंदिर में लाया गया था। भगवान राम की मूर्ति को पूरे वैदिक मंत्रोचार के बीच गर्भ गृह में रखा गया।

 

21 जनवरी तक जारी रहेंगे अनुष्ठाान

 

22 जनवरी के बाद आम जनता के लिए खुलेगा मंदिर

 

 ram

आज सुबह नौ बजे अरणिमन्थन से अग्नि प्रकट किया गया।  इससे पहले बुधवार को कलश पूजन का आयोजन किया गया। राम मंदिर ट्रस्ट के अधिकारियों के अनुसार अनुष्ठान 21 जनवरी तक जारी रहेंगे और प्राण प्रतिष्ठा के दिन Ramlala की मूर्ति की ‘प्राण प्रतिष्ठा’ के लिए हर जरूरी अनुष्ठान आयोजित किए जाएंगे। 121 ‘आचार्य’ अनुष्ठान का संचालन कर रहे हैं। राम मंदिर ‘प्राण प्रतिष्ठा’ कार्यक्रम 22 जनवरी को दोपहर 12 बजकर 20 मिनट पर शुरू होगा और दोपहर एक बजे समाप्त होने की उम्मीद है।

योजनाओं की जानकारी के लिए क्लिक करें

Leave a Comment

Whatsapp Group join
ऐसे खबरें पढ़ने के लिये चैनल को जाइवन करें
ऐसे खबरें पढ़ने के लिये चैनल को जाइवन करें
×