झोलाछाप चिकित्सक के उपचार से होमगार्ड की चली गई जान।

झोलाछाप  के उपचार से होमगार्ड की चली गई जान।

सहसवान। सहसवान तहसील क्षेत्र में झोलाछाप चिकित्सकों की आई बाढ़ से प्रतिदिन झोलाछाप के उपचार से किसी न किसी को अपनी जान से हाथ धोना पड़ रहा है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र दहगवां के अंतर्गत ग्राम अल्हदादपुर धोबई में जरीफनगर थाने में तैनात एक होमगार्ड की मंगलवार को तबीयत खराब होने पर परिजन ग्राम में ही एक झोलाछाप चिकित्सक के यहां उपचार के वास्ते होमगार्ड को ले गए।

जहां उपचार के दौरान हालत नाजुक होने पर परिजन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सहसवान होमगार्ड को लेकर पहुंचे जहां चिकित्सकों ने होमगार्ड को मृत घोषित कर दिया।झोलाछाप चिकित्सक

Whatsapp Group join
Please Join Whatsapp Channel
Please Join Telegram channel

बदायूँ पुलिस की सूची

होमगार्ड के मृत घोषित होने की जानकारी परिजनों को मिलते ही परिजन सामुदायिक परिसर में ही दहाड़े मारकर रोने लगे ईएमओ ने थाना कोतवाली सहसवान पुलिस को मेमो भेजकर जानकारी से अवगत कराया पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मृतक के शव को सील कर पोस्टमार्टम हेतु जिला चिकित्सालय भेजा हैIझोलाछाप चिकित्सक

परिजन तबीयत खराब होने पर झोलाछाप चिकित्सक की शरण में लेकर पहुंचे थे।

जानकारी के मुताबिक सहसवान थाना कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम अलहदादपुर धोबई निवासी नेत्रपाल यादव के पुत्र सुरेश चंद्र यादव विकास खंड दहगवां होमगार्ड कंपनी में होमगार्ड आरक्षी पद पर थाना जरीफनगर में तैनात हैं। जरीफनगर पुलिस द्धारा उन्हें ग्राम उस्मानपुर प्रथमा ग्रामीण बैंक में सुरक्षा के वास्ते ड्यूटी कर रहे थे।

कि मंगलवार को अचानक परिजनों के मुताबिक उनके पेट में दर्द होना प्रारंभ हुआ परिजन ग्राम में ही झोलाछाप चिकित्सक गोवर्धन के पास उपचार वास्ते ले गए गोवर्धन ने उनका उपचार प्रारंभ कर दिया।होमगार्ड सुरेश चंद यादव की हालत पल-पल खराब होती चली गई परंतु झोलाछाप चिकित्सक गोवर्धन उनके परिजनों को स्वस्थ होने का आश्वासन देते रहे|

परिजनों ने बताया 12:00 बजे के लगभग गोवर्धन ने उन्हें कोई इंजेक्शन लगाया जिससे उनका पेट फूल गया और हालत नाजुक हो गई।

परिजनों के द्धारा ज्यादा हंगामा करने पर गोवर्धन ने उन्हें कहीं अन्य जगह ले जाने की सलाह दी परिजन होमगार्ड सुरेशचंद्र को लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सहसवान पहुंचे जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया सुरेश चंद के मृत घोषित होने की जानकारी मिलते ही परिजन दहाड़ मारकर रोने लगे

ईएमओ ने मृतक होमगार्ड सुरेश चंद के मामले की थाना कोतवाली सहसवान को मीमो चिट्ठी भेजकर जानकारी से अवगत कराया जिस पर पुलिस ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचकर होमगार्ड सुरेश चंद्र के शव को कब्जे में लेकर सब को सील कर पोस्टमार्टम हेतु जिला चिकित्सालय भेजा हैI

मृतक होमगार्ड की पत्नी आशा शव से लिपटकर दहाड़े मार-मार कर रो रही है।

मृतक अपने पीछे पत्नी आशा ब 6 पुत्र छोड़ गए हैं मृतक सुरेश चंद्र के छोटे भाई मुन्नालाल ने जानकारी देते हुए बताया झोलाछाप चिकित्सक गोवर्धन के कारण ही भाई को जान से हाथ धोना पड़ा। मुन्ना लाल ने थाना कोतवाली पुलिस ने झोलाछाप चिकित्सक के विरुद्ध कार्रवाई किए जाने की मांग की हैl

झोलाछाप चिकित्सक

सचिवालय

 

Leave a Comment