(female judge death case)सरयू तट पर करना मेरा अंतिम संस्कार, खरगोशों का रखना ख्याल

(महिला जज की मौत का मामला)सरयू तट पर करना मेरा अंतिम संस्कार, खरगोशों का रखना ख्याल…रुला देंगी महिला जज की ये बातें

female judge death case बदायूं में सिविल जज जूनियर डिवीजन ज्योत्सना राय के शव का पोस्टमार्टम रविवार सुबह हुआ। तीन डॉक्टरों के पैनल ने पोस्टमार्टम किया। वीडियोग्राफी भी कराई गई। पोस्टमार्टम के बाद उनका शव परिजनों को सौंप दिया गया। माना जा रहा है कि जज ज्योत्सना राय का अंतिम संस्कार अयोध्या के सरयू तट पर किया जाएगा। कमरे से मिले जो नोट में मिला है, उसमें भी यह लिखा हुआ कि उनका अंतिम संस्कार सरयू तट पर किया जाए।

female judge death case
(female judge death case)सरयू तट पर करना मेरा अंतिम संस्कार, खरगोशों का रखना ख्याल

female judge death caseसिविल जज जूनियर डिवीजन ज्योत्सना राय (29) का शव शनिवार सुबह सरकारी आवास में फंदे से लटका मिला था।

पुलिस के मुताबिक जज के कमरे से एक नोट भी बरामद हुआ है। इस नोट के बारे में कोई भी अधिकारिक रूप से बयान देने को तैयार नहीं है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि महिला जज ने सुसाइड नोट हिंदी और अंग्रेजी में लिखा है।

female judge death case
(female judge death case)सरयू तट पर करना मेरा अंतिम संस्कार, खरगोशों का रखना ख्याल

नोट में ये लिखा:-सुसाइड नोट के बारे में कोई अधिकारिक रूप से बयान देने को तैयार नहीं है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि महिला जज ज्योत्सना राय ने सुसाइड नोट हिंदी और अंग्रजी दोनों भाषाओं में लिखा है। हिंदी में लिखा है- ‘मेरी मौत का कोई जिम्मेदार नहीं है, तुम्हें विवेचना करनी है तो कर लेना। तुम्हें कुछ नहीं मिलेगा।वहीं अंग्रेजी में में ‘फीलिंग एलोन’ और ‘फीलिंग अनहैप्पी’ भी लिखा गया है।

अपने पुलिस स्टेशन को जानें एक क्लिक पर

 

female judge death case सूत्रों के अनुसार ये भी लिखा है कि मेरा अंतिम संस्कार अयोध्या में सरयू तट पर करना।

हालांकि उनका सुसाइड नोट परिवार वालों के गले नहीं उतर रहा है। न्यायालय से जुड़े अधिकारी और कर्मचारी भी नहीं समझ पा रहे हैं कि आखिर जज किस परेशानी से जूझ रहीं थीं। उन्हें क्या दिक्कत थी। इधर लड़की की गोद भराई रस्म हुई पूरी उधर लड़की गोद भराई की संपत्ति लेकर प्रेमी के साथ हुई फरार

उन्होंने कभी परिवार वालों या अपने साथियों से इसका जिक्र नहीं किया था। एक बात और सामने आई है कि कमरे में 2021 की एक डायरी भी मिली है, इसमें जनवरी की 29 तारीख तक के पेज फटे हुए हैं। बताते हैं कि यह पन्ने भी हाल में फाड़े गए हैं। यह भी बताया जा रहा है कि शुक्रवार रात जज ने अपनी मां से बात भी की थी और तब वह खुश बताई गई थीं। इस बात का जिक्र उनके पिता की ओर से दी गई तहरीर में भी है।

रिपोर्ट – जयकिशन सैनी (समर इंडिया)

Leave a Comment

Whatsapp Group join
ऐसे खबरें पढ़ने के लिये चैनल को जाइवन करें
ऐसे खबरें पढ़ने के लिये चैनल को जाइवन करें
×