फर्जी खुलासा करने मे इन्सपेक्टर सहित 11 पर मुकदमा दर्ज।


उत्तर प्रदेश के अमरोहा जनपद की अदालत ने जिंदा बेटी की हत्या के आरोप में पिता और पुत्र व रिश्तेदारों को जेल भेजने के मामले में तत्कालीन आदमपुर थाने के अध्यक्ष अशोक शर्मा सहित 11 पुलिसकर्मियों के खिलाफ रविवार को मुकदमा दर्ज किया है । घटना के दौरान पुलिस ने तब कार्रवाई नहीं की थी, अब कोर्ट के आदेश पर मुकदमा दर्ज हुआ है।बता दें कि अमरोहा जनपद के आदमपुर थाना क्षेत्र के गांव मलकपुर निवासी सुरेश की बेटी कमलेश छह फरवरी 2019 को लापता हो गई थी। 20 फरवरी 2019 को भाई रूपकिशोर ने बहन के लापता होने की सूचना दी थी। आदमपुर थाना पुलिस ने होराम व हरफूल को अपहरण करने के ■ मामले में 26 फरवरी 2019 को गिरफ्तार किया था , जिसके बाद से वह लोग जेल में ही थे इस बीच पुलिस ने हत्या के मामले की जांच में नया मोड़ लाते हुए 28 दिसंबर 2019 को लापता बेटी कमलेश के पिता सुरेश, भाई रूपकिशोर व दिव्यांग रिश्तेदार देवेंद्र को गोली मारकर हत्या करने के आरोप में कोर्ट में पेश कर जेल भेजा था। इसी बीच सात अगस्त 2020 को अपहर्ता कमलेश को आदमपुर पुलिस ने पड़ोस के गांव पौरारा में राकेश सैनी के घर से बरामद कर लिया था। बेटी की हत्या के झूठे मुकदमे में सुरेश ने 11 माह, रूपकिशोर ने नौ माह तथा देवेंद्र ने 15 माह बेकुसूर होते हुए जेल में बिताए । इसी वजह से इस मामले में 23 अक्टूबर 2021 को अदालत ने आदेश सुनाते हुए तत्कालीन थानाध्यक्ष अशोक शर्मा सहित 11 पुलिसकर्मियों के विरुद्ध आदमपुर थाने में अभियोग पंजीकृत कराया है और पूरे मामले की जांच की जा रही है इसकी जानकारी अमरोहा जनपद के अपर पुलिस अधीक्षक ने दी है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper