देवभूमि (उत्तराखंड)

जोशीमठ में मौसम ख़राब होने के कारण फिर रुका होटल को गिराने का काम

The work of demolishing the hotel stopped again due to bad weather

हाल ही में सोशल मीडिया पर एक बड़ी खबर सामने आ रही है जिसमे आपको बतादें कि धंसते जोशीमठ में अब SDRF का एक्शन शुरू हो गया है. स्थानीय लोगों द्वारा किए जा रहे विरोध के बीच वहां होटल को गिराने का काम किया जा रहा है. वहां दो होटल एक दूसरे की तरफ झुक रहे हैं, जिनसे दूसरे इमारतों को भी खतरा हो सकता है.

इतना ही नहीं इसको देखते हुए सबसे पहले उनको गिराया जाएगा. इससे पहले मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को जोशीमठ का दौरा किया. इस दौरान उन्होंने प्रभावित परिवारों से मुलाकात की थी. उन्होंने कहा कि इन परिवारों को राहत दिलाना सरकार की प्राथमिकता है.जोशीमठ में भू धंसाव की त्रासदी को लेकर जनता से लेकर सरकार तक टेंशन में है.

वहीँ दूसरी ओर जोशीमठ में खराब होते मौसम ने सबकी चिंता को और बढ़ा दिया है. इस बीच वहां होटल को गिराने का काम शुरू हो गया है. इससे पहले मुआवजे पर लोगों के विरोध की वजह से ये काम शुरू हो नहीं हो पाया था. लोगों के गुस्से के बीच कल रात सीएम पुष्कर सिंह धामी जोशीमठ के उस रिलीफ कैंप में पहुंचे, जहां प्रभावित परिवार के लोग हैं. धामी ने साफ कर दिया।

जानते है क्या है ताज़ा स्थिति?

आपको बतादें कि जोशीमठ में हो रहे भू-धंसाव के दृष्टिगत जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण चमोली द्वारा जारी दैनिक रिपोर्ट के अनुसार जोशीमठ नगर क्षेत्र के 9 वार्ड में 760 प्रभावित भवनों को अभी तक चिन्हित किया गया है. जिसमे से 128 भवनों को असुरक्षित जोन के अंतर्गत रखा गया है.

आपको बतादें कि जिला प्रशासन ने अस्थायी राहत शिविरों के रूप में 51 भवनों के 344 कक्षों का चिह्नीकरण कर लिया गया है. इसमें 1425 व्यक्तियों को ठहराया जा सकता है. वहीं नगर पालिका के बाहर पीपलकोटी में अस्थायी राहत शिविरों के रूप में 20 भवनों के 491 कमरों को चयनित किया गया है, जिसमे कुल 2205 लोगों को ठहराया जा सकेगा.

राहत कार्यो के तहत जिला प्रशासन द्वारा अबत क 73 परिवारों को 5 हजार रुपये की दर से कुल 3 लाख 65 हजार रुपये की धनराशि आवश्यक दैनिक घरेलू सामग्री क्रय करने हेतु वितरित की जा चुकी है. जबकि पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त 10 भवन स्वामियों को 1 लाख 30 हजार रुपये की दर से कुल 13 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जा चुकी है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 + thirteen =

Back to top button
error: Content is protected !!
E-Paper