जरा हटके

ऐसा अनोखा पेड़ जिस पर उगती है लड़कियां । रहस्य जानकर हैरान रह जाएंगे

दुनिया में एक ऐसा पेड़ है जिसपर बिल्कुल लड़कियों की आकृति वाला फल लगता है. यह पेड़ थाइलैंड के हिमाफन जंगलों में पाए जाते हैं. इन पेड़ों पर लड़कियों के आकार के फल लगते हैं. थाइलैंड में इस पेड़ को नैरीफन बुलाते हैं. वहीं, कई जगहों पर इसे नैरीलता के नाम से भी जाना जाता है.

इस पेड़ पर उगने वाले लड़कियों के आकार के फल पर रिसर्च जारी है. आखिर क्यों इस पेड़ पर नारी के आकार का फल लगता है, इसपर काफी समय से शोध जारी है. वैज्ञानिक अभी तक ये पृष्टि नहीं कर पाए हैं कि ये वास्तव में फल हैं या कुछ और.

इस तरह के पेड़ पर यकीन करना थोड़ा दुर्लभ है

ऑर्किडासिये परिवार का ये फूल हाबेनरिया प्रजाति का माना जाता है. दावा किया जाता है कि यह पेड़ भारत के दुर्गम हिमालयी क्षेत्रों में भी पाया जाता है. हालांकि, पेड़ों पर आम, लीची, सेब, पपीता, अमरूद समेत तमाम तरह के फल तो लगते देखा है लेकिन लड़कियों की आकृति वाले फलों का पेड़ पर यकीन करना थोड़ा मुश्किल है.

इस पेड़ को लेकर अलग अलग मानताये हैं

इस पेड़ को भगवान ने खुद थाईलैंड के हिमाफन के जंगलों में लगाया था. इसी वजह से इस पेड़ पर ऐसे अजीब आकार के फल आते हैं. वहीं, एक मान्यता ये भी है कि सदियों पहले भगवान इंद्र अपनी पत्नी और बच्चों के साथ इसी जंगल में रहते थे.

इंद्र की पत्नी जंगल में फल तोड़ने गईं तो कुछ लोगों ने उन पर हमला कर दिया. उनकी रक्षा के लिए भगवान ने इस जंगल में नैरीफन के 12 पेड़ तुरंत उगा दिए. यह पेड़ लोगों को धोखा देने के लिए लगाया गया था. इसके फल का आकार नारी के शरीर की तरह था. ऐसा इसलिए किया गया था कि लोगों द्वारा उनकी पत्नी को परेशान नहीं किया जा सके. थाई लोककथाओं के अनुसार, इंद्र और उनकी पत्नी की मृत्यु के बाद भी पेड़ों पर फल लगते रहे.

इस पेड़ पर सवाल भी उठते रहते हैं

हालांकि, इस पेड़ पर लगने वाले फल को लेकर कई लोगों ने सवाल भी उठाए हैं. लोगों का कहना है कि इस तरह के आकार के फल का होना संभव नहीं हो सकता है. कई लोग दावा करते हैं कि इस तरह के फल का आकार एक सांचे में फिट करके उगाया जाता है.

AMAN KUMAR SIDDHU

Aman Kumar Siddhu Author at Samar India Media Group From Uttar Pradesh. Can be Reached at samarindia22@gmail.com.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 + 13 =

Back to top button
error: Content is protected !!
E-Paper