देवभूमि (उत्तराखंड)

जोशीमठ में शुरू हुई बर्फ़बारी, बढ़ सकती है लोगो की मुश्किलें

Snowfall started in Joshimath, people's problems may increase

हाल ही में कुछ दिन पहले मौसम विभाग ने बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया था वहीँ इसी बीच खबर सामने आ रही है कि उत्तराखंड के चमोली जिले में बर्फबारी भी शुरू हो गई है. बर्फबारी से पर्यटन से जुड़े व्यवसायी और सैलानी खुश है, लेकिन इससे जोशीमठ के लोगों की मुसीबत और अधिक बढ़ गई है.

आपको बताते चले कि बर्फबारी से जहां एक ओर पर्यटन से जुड़े व्यवसायी (औली, चोपता) और सैलानी खुश दिखाई दे रहे हैं, तो बर्फबारी और सर्द मौसम ने जोशीमठ के लोगों के लिए मुसीबत और अधिक बढ़ा दी है.बता दें कि कुछ दिन पहले मौसम विभाग ने बर्फबारी की बात कही थी और अब जोशीमठ में चारों तरफ बर्फ की सफेद चादर बिछ चुकी है.

वहीँ दूसरी ओर जनवरी के तीसरे सप्ताह में पहाड़ों में बर्फबारी हुई है बर्फ से पेड़ पौधे सफेद हो चुके हैं. हालांकि यह बर्फबारी जोशीमठ भू धंसाव में प्रभावित लोगों के लिए अच्छी खबर लेकर तो नहीं आई, लेकिन सैलानियों के लिए एक अच्छी खबर है जोशीमठ ही नहीं औली, बद्रीनाथ धाम और हेमकुंड साहिब में भी इस समय अच्छी खासी बर्फबारी हो रही है.

आपदा कन्ट्रोल रूम से मिली जानकारी के मुताबिक जिले में 47 गांव बर्फबारी से प्रभावित हुए है. इसमें सबसे ज्यादा 19 गांव तहसील घाट और 13 गांव तहसील जोशीमठ के शामिल हैं. जबकि तहसील चमोली के अन्तर्गत सात और तहसील गैरसैंण में आठ गांव बर्फबारी से प्रभावित हुए हैं.

आपको बताते चले कि जोशीमठ में अभी तक 849 घरों को भू धंसाव के लिए चिह्नित किया है. मकानों में दरारें मिली हैं और प्रभावित 259 परिवारों के 867 सदस्यों को राहत शिविरों में रुकवाया गया है. एक ओर जहां लोग अपनी टूटी फूटे मकानों में रहने से डर रहे थे और शीतलहर से लड़ रहे थे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 2 =

Back to top button
error: Content is protected !!
E-Paper