उत्तर प्रदेश

उझानी में एसआईबी टीम के अधिकारियों ने चार व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर मारा छापा

उझानी में एसआईबी टीम के अधिकारियों ने चार व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर मारा छापा,

जांच के दौरान जीएसटी के रिकार्ड में मिलीं खामियां, देर शाम तक कार्रवाई रही जारी
जयकिशन सैनी (समर इंडिया)

उझानी। वाणिज्य कर विभाग की विशेष जांच शाखा (एसआईबी) ने बृहस्पतिवार चार व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर छापा मारकर बिक्री से जुड़े अभिलेखों को चेक किया। अभिलेखों में खामियां पाए जाने के शोर के बीच टीमों ने देर शाम तक कार्रवाई जारी रखी है। इसे लेकर दुकानदारों में अफरातफरी का माहौल रहा। टीमों को जीएसटी रिकार्ड में कुछ खामियां मिलीं हैं।

एसआईबी के अफसर पुलिस कर्मियों के साथ पूर्वाह्न में आए। चार टीमों ने अलग-अलग स्थानों पर रफीक, अकील अहमद और जमील अहमद समेत चार लोगों के प्रतिष्ठानों पर एक साथ कार्रवाई शुरू करते हुए जीएसटी से जुड़े उनके अभिलेख कब्जे में ले लिए। बिक्री रजिस्टर भी चेक किए गए। स्टाक समेत रोजाना बिक्री की सूची का मिलान शुरू किया। अभिलेखों में खामियां सामने आने लगीं। प्रत्येक टीम में चार-चार अफसर शामिल थे। अफसरों ने दुकानदारों से जानकारी करके मिलान के बाद अभिलेखों पर उनके हस्ताक्षर भी कराए। कार्रवाई की चपेट में आए प्रतिष्ठानों में दो कृषि उपकरण निर्माण से जुड़े हैं। देर शाम तक कार्रवाई के दौरान अफसरों ने खामियों को लेकर अहम जानकारियां सार्वजनिक करने से इंकार कर दिया। कार्रवाई के समय पुलिस कर्मियों को निर्देशित कर दिया गया था कि बाहरी लोगों में वह किसी को भी प्रतिष्ठान के अंदर पहुंचने न दें।

एसआईबी की भनक लगते ही बाजार में सन्नाटा पसरा:- कार्रवाई के डर से कई बड़े व्यापारियों ने शटर गिरा लिए। ग्राहकों को आसपास भी भटकने नहीं दिया गया। पूरे दिन ऐसा ही माहौल नजर आया। अधिकतर व्यापारी एक-दूसरे से इस बात की चर्चा करते दिखे कि टीम अब कहां पर है। बुधवार को भी छापामार कार्रवाई का शोर मचा था लेकिन शाम तक अफसर बाजार में कहीं नहीं दिखे तो व्यापारियों ने राहत महसूस की।
पूरे जिले में रही गहमागहमी:- एसआईबी टीम द्धारा लगातार छापामार कार्रवाई से व्यापारियों में एक अजीब सा खौफ नजर आने लगा है। बृहस्पतिवार को बदायूं शहर में भी व्यापारियों ने देर से दुकानें खोलीं। सराफा बाजार के दुकानदारों में ज्यादा खौफ रहा। दुकानों के शटर भी दोपहर तक इसलिए आधे गिरे रहे कि टीम के आने पर तुरंत ही दुकान बंद करके चले जाएं। इसके अलावा वजीरंगज, इस्लामनगर, उघैती, सहसवान आदि में भी अधिकांश दुकानें बंद रहीं तो कई दोपहर बाद खुलीं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 − five =

Back to top button
error: Content is protected !!
E-Paper