उप्र के कई शहरों में मेट्रो ट्रेन का जाल बिछाने के लिए तेजी से हो रहे कार्य

उप्र के कई शहरों में मेट्रो ट्रेन का जाल बिछाने के लिए तेजी से हो रहे कार्य

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कई शहरों में मेट्रो रेल (ट्रेन) का जाल बिछाने के लिए तेजी से कार्य हो रहे हैं। लखनऊ के साथ प्रयागराज, वाराणसी और गोरखपुर में मेट्रो रेल के लिए कार्य योजना तैयार है। आगरा और कानपुर में मेट्रो ट्रेन का संचालन शुरू करने की तैयारियां तेजी से चल रही हैं।

उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल काॅरपोरेशन लिमिटेड (यूपीएमआरसीएल) ने प्रथम कॉरिडोर(आईआईटी से नौबस्ता तक) में से आईआईटी से मोतीझील तक के प्राथमिकता वाले सेक्शन में नवम्बर में मेट्रो के ट्रायल रन और जनवरी से यात्रियों को यह सुुविधा उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा है।

कानपुर में मेट्रो का निर्माण कार्य तेजी से ट्रायल रन की तरफ बढ़ रहा है। प्राथमिकता वाले कॉरिडोर में आईआईटी से मोतीझील तक नौ किलोमीटर लंबे सेक्शन में से साढ़े आठ किलोमीटर से ज्यादा में मेट्रो ट्रैक का आधार तैयार हो गया है। इस कॉरिडोर में 600 यू-गर्डर भी रखे जा चुके हैं। इसके साथ ही आईआईटी से मेडिकल कालेज गेट तक मेट्रो ट्रैक के लिए ट्रैक के लिए कनेक्टिविटी पूरी हो गई है। फिलहाल अक्टूबर में ट्रेन कोच आएंगे और नवम्बर में ट्रायल रन की तैयारी है।

कानपुर में पहले चरण में आईआईटी से मोतीझील के बीच लगभग नौ किमी तक मेट्रो रेल चलेगी। कानपुर में दो कॉरिडोर में काम चल रहा है। पहले कॉरिडोर की लंबाई आईआईटी कानपुर से नौबस्ता तक 23.8 किलोमीटर और दूसरे में एग्रीकल्चर विश्वविद्यालय से बर्रा तक 8.6 किलोमीटर तक मेट्रो ट्रेन चलेगी। इनमें कुल 30 स्टेशन होंगे।

आगरा में 30 नवम्बर से मेट्रो रेल के संचालन की तैयारियां चल रही है। आगरा में पहले चरण में ताज ईस्ट गेट से जामा मजिस्द तक लगभग छह किलोमीटर में मेट्रो रेल चलेगी। आगरा में दो कॉरिडोर में मेट्रो रेल परियोजना का काम चल रहा है। सिकंदरा से ताज ईस्ट गेट और आगरा कैंट से कालिंदी विहार तक कार्य चल रहा है। पहले कॉरिडोर की लंबाई 14 किमी और दूसरे की 15.4 किमी है। दोनों कॉरिडोर में कुल 27 स्टेशन होंगे।

लखनऊ में फेज-वन बी में चारबाग से बसंतकुंज के बीच विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार है। इसकी कुल लंबाई करीब 11.098 किलोमीटर है। इस रूट पर 12 मेट्रो स्टेशन होंगे। इस पर करीब 4,888 करोड़ रुपये खर्च होंगे। फिलहाल चारबाग से बसंत कुंज के बीच मेट्रो का कार्य अभी शुरू होना है। गोरखपुर और वाराणसी में लाइट मेट्रो रेल चलाने के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) का कार्य पहले ही पूरा हो चुका है। कैबिनेट से मंजूरी के बाद इसे केंद्र सरकार को भेजा जाएगा।

उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के प्रबंध निदेशक कुमार केशव का कहना है कि कानपुर और आगरा में मेट्रो के निर्माण कार्य बहुत तेजी से चल रहे हैं। यहां पर मेट्रो ट्रेन का संचालन होना है। कानपुर में प्राथमिकता वाले सेक्शन में सिविल कार्य लगभग पूरे हो गए हैं। इसके साथ ही मेट्रो ट्रैक बिछाने, स्टेशनों, डिपो के तकनीकी कक्ष आदि भी तैयार किए जा रहे हैं।



प्रयागराज। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महन्त नरेन्द्र गिरी की मौत के मामले में पुलिस की जांच जारी है। जार्जटाउन थाने में धारा 306 के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है, जिसमें महन्त के प्रमुख शिष्य आनन्द गिरी का नाम लिखित तौर पर एफआईआर में दर्ज है।
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष एवं पंचायती निरंजनी अखाड़ा के महन्त नरेन्द्र गिरी की सोमवार को हुई संदिग्ध मौत मामले में जार्जटाउन थाने में उनके शिष्य अमर गिरी पवन महराज ने तहरीर दिया है। इसमेें उन्होंने बताया कि प्रतिदिन की भांति तीन बजे चाय का समय होने पर चाय पीते थे। लेकिन वह पहले से मना किया था कि जब पीना होगा, तब हम स्वयं सूचित करेंगे। शाम को लगभग पांच तक कोई सूचना न मिलने पर फोन किया गया, लेकिन फोन बन्द आ रहा था। दरवाजा खटखटाया गया तो कोई आहट न मिलने पर सुमित तिवारी, सर्वेश कुमार द्विवेदी तथा धनन्जय आदि शिष्यों के द्वार दरवाजा धक्का देकर दरवाजा खोला गया तो देखा कि महाराज पंखे में रस्सी द्वारा लटक रहे थे। जीवन की सम्भावना को देखते हुए शिष्यों द्वारा रस्सी काटकर उन्हें नीचे उतारा गया, तब तक वह स्वर्गलोक के वासी हो चुके थे। महराज जी को पिछले कुछ महीनों से आनन्द गिरी परेशान कर रहा था। यह बात कभी-कभी वह स्वयं कहा करते थे कि आनन्द गिरी हमे बहुत परेशान करता रहता है। यह सूचना हम लोगों ने पुलिस को लिखित दिया। पुलिस ने आनन्द गिरी के खिलाफ धारा 306 के तहत मुकदमा दर्ज लिया है।

पुलिस ने रस्सी, सुसाइट नोट और महंत नरेन्द्र गिरी के मोबाइल फोन को जांच के लिए भेजा गया है। पुलिस सूत्रों कहना है कि सीडीआर निकाल कर उनके सम्पर्क में रहने वाले संदिग्ध राजनीतिक एवं आखाड़ा परिषद में आने वाले लोगों से पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी व उनके बेटे संदीप तिवारी को सोमवार शाम ही मंदिर से हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। सूत्रों की माने से आनन्द गिरी से मंदिर के पुजारी एवं उसके बेटे संदीप तिवारी का बहुत गहरा सम्बन्ध है। अखाड़ा परिषद की सम्पत्ति को लेकर भी पुराने विवादों के सम्बन्ध में पुलिस जांच कर रही है।
वीडियो क्लिपिंग को लेकर चर्चा
पुलिस सूत्रों की माने तो इतने निर्भिक रहने वाले संत नरेन्द्र गिरी आत्महत्या जैसा कदम कैसे उठा सकते है। उनकी पुलिस एवं प्रशानिक अधिकारियों से बहुत करीबे सम्बन्ध थे। यदि उन्हें कोई इस तरह की बात होती तो वह बता सकते थे। एक वीडियो क्लिपिंग की भी चर्चा हो रही है, उसकी जांच के लिए भी सर्विलांस की टीम को लगाया गया है। आशंका है कि कहीं उन्हें वीडियों क्लीपिंग के जरिये कोई ब्लैक मेल तो नहीं कर रहा था। इन सभी पहलुओं पर पुलिस की टीम काम कर रही है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper