टेक्नॉलजी
Trending

इन्स्टाग्राम ने की बड़ी घोषणा-अब नहीं दिखाई देगा अपशब्द और ट्रोल वाला कंटेंट जाने पूरा मामला ?

nstagram ने अपने फीचर को भी अपग्रेड किया है, जो स्टोरीज रिप्लाई के लिए आपत्तिजनक शब्दों को फिल्टर करके यूजर्स को संभावित रूप से अपत्तिजनक शब्दों और मैसेजों को देखने से रोकने में मदद करता है। कंपनी ने कहा कि वह क्रिएटर्स को उत्पीड़न से बचाने के लिए डिजाइन किए गए nudges को एक्सपेंड कर रहे हैं।

अपशब्द कहने वालों और ट्रोल करने वालों के अकाउंट को ब्लॉक करने की सुविधा !

फोटो-वीडियो शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) ने शुक्रवार को नई घोषणा करी है , कंपनी इंस्टाग्राम यूजर्स को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपशब्द कहने वालों और ट्रोल करने वालों के अकाउंट को ब्लॉक करने की सुविधा देगी। कंपनी ने कहा कि प्लेटफॉर्म पर अभद्र भाषा और ऑनलाइन दुर्व्यवहार से निपटने के लिए दोगुना सख्ती से काम करेगा।

Instagram testing new feature for Reels, will allow creators to use video  'Templates' | Apps

इंस्टाग्राम ने इसके लिए अपने फीचर को भी अपग्रेड किया है, जो स्टोरीज रिप्लाई के लिए आपत्तिजनक शब्दों को फिल्टर करके यूजर्स को संभावित रूप से अपत्तिजनक शब्दों और मैसेजों को देखने से रोकने में मदद करता है। कंपनी ने कहा कि वह क्रिएटर्स को उत्पीड़न से बचाने के लिए डिजाइन किए गए nudges को एक्सपेंड कर रहे हैं।

Instagram tests new feature that looks suspiciously like TikTok - Tech

एक क्लिक में होंगे सभी प्लेटफॉर्म से ब्लॉक !

इंस्टाग्राम – सभी इंस्टाग्राम यूजर्स अब किसी व्यक्ति के सभी मौजूदा सोशल मीडिया अकाउंट को ब्लॉक करने में सक्षम होंगे। बता दें कि इंस्टाग्राम ने पिछले साल ही यूजर्स के अकाउंट को ब्लॉक करने की सुविधा दी थी, जिसमें वहीं यूजर कोई नया अकाउंट बनाता है तो वो भी ब्लॉक हो जाता है। अब इस सुविधा में विस्तार किया गया है।

Instagram copying TikTok, as users worry | News Ghana

इंस्टाग्राम ने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा कि इस नए बदलाव के शुरुआती परीक्षण के परिणामों के आधार पर हम उम्मीद करते हैं कि अब हमें कम अकाउंट को ही ब्लॉक करना होगा, क्योंकि ये अकाउंट अब अपने आप ही ब्लॉक हो जाएंगे। कंपनी ने कहा कि उसे अब हर हफ्ते 4 मिलियन यानी 40 लाख कम अकाउंट को ब्लॉक करना होगा।

How to control suggested Instagram posts - How smart Technology changing  lives

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
E-Paper