उत्तर प्रदेश

उसहैत में तिहरे हत्याकांड की वारदात को अंजाम देने बाला एक और आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ा, पुलिस ने आरोपी को भेजा जेल,

उसहैत थाना क्षेत्र के गांव सथरा में 31 अक्टूबर 2022 को सपा नेता राकेश गुप्ता, उनकी मां शांति देवी और पत्नी शारदा गुप्ता की उनके ही घर में दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी थी।

उसहैत में तिहरे हत्याकांड की वारदात को अंजाम देने बाला एक और आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ा, पुलिस ने आरोपी को भेजा जेल,

जयकिशन सैनी (समर इंडिया)

बदायूँ। उसहैत थाना क्षेत्र के तिहरे हत्याकांड का साजिशकर्ता अर्चित दीक्षित सोमवार को केशोंपुर नगला चौराहे से पकड़ा गया। उस पर 25 हजार रुपये का इनाम था। वह मुख्य हत्यारोपी रविंद्र दीक्षित का बेटा है। इस हत्याकांड में अर्चित फरार चल रहा था, जबकि अन्य आरोपी जेल भेजे जा चुके हैं। कोर्ट में पेश करने पर अर्चित को भी जेल भेज दिया गया। उसहैत थाना क्षेत्र के गांव सथरा में 31 अक्तूबर 2022 को सपा नेता राकेश गुप्ता, उनकी मां शांति देवी और पत्नी शारदा गुप्ता की उनके ही घर में दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मामले में राकेश गुप्ता के भाई पूर्व ब्लॉक प्रमुख राजेश गुप्ता ने रविंद्र दीक्षित, उसके बेटे सार्थक दीक्षित, अर्चित दीक्षित और विक्रम उर्फ विक्की समेत छह लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। वारदात के दूसरे दिन पुलिस ने मुख्य आरोपी रविंद्र और उसके बेटे सार्थक को असलहों के साथ गिरफ्तार कर लिया था। कोर्ट ने उन्हें जेल भेज दिया था। बाद में विक्रम उर्फ विक्की और अवनीश पकड़ा गया, जबकि एक आरोपी चांद मोहम्मद ने कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया था।
इस मामले में रविंद्र का बेटा अर्चित फरार चल रहा था। राजेश गुप्ता का आरोप था कि अर्चित ही इस हत्याकांड का मुख्य साजिशकर्ता था। उसने ही राकेश गुप्ता के पूरे परिवार को खत्म करने की साजिश रची थी। उस समय से पुलिस अर्चित को तलाश कर रही थी। पुलिस ने उस पर 25 हजार का इनाम घोषित किया था।

प्रभारी निरीक्षक वीरपाल सिंह के मुताबिक सोमवार सुबह अर्चित क्षेत्र के गांव केशोंपुर नगला चौराहे पर शिव मंदिर के पास से पकड़ा गया। उसे कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने उसे जेल भेज दिया।
तिहरे हत्याकांड में अर्चित के न पकड़े जाने से पुलिस आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट नहीं लगा पा रही थी। इस समय विवेचना चल रही है। सारे सुबूत जुटा लिए गए हैं। केवल चार्जशीट लगना शेष रह गई है। अब आरोपी अर्चित पकड़ा गया है। इससे चार्जशीट लगने का रास्ता साफ हो गया है। हत्याकांड में पूर्व ब्लॉक प्रमुख ने चार नामजद और दो अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। अब यह सभी आरोपी पकड़े जा चुके हैं। इसमें सातवां आरोपी दयाकिशोर एटा जिले के रजा का रामपुर थाना क्षेत्र के गांव अंगदपुर का रहने वाला है। इस हत्याकांड को अंजाम देने के बाद विक्रम उर्फ विक्की उसके घर पर ही रुका था। उसको संरक्षण देने के आरोप में 20 नवंबर को दयाकिशोर गिरफ्तार करके जेल भेजा जा चुका है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × five =

Back to top button
error: Content is protected !!
E-Paper