आपराधउत्तर प्रदेश

जिले में बढ़े पैमाने पर हो रही है गोकशी, पशु तस्कर रात्रि में कोहरे का फायदा उठाकर कर रहे है गोवंशीय पशुओं का वध, पुलिस प्रशासन खामोश

जिले में बढ़े पैमाने पर हो रही है गोकशी, पशु तस्कर रात्रि में कोहरे का फायदा उठाकर कर रहे है गोवंशीय पशुओं का वध, पुलिस प्रशासन खामोश

जयकिशन सैनी (समर इंडिया)

बदायूँ। जिले में लगातार गौकशी की घटनाएं सामने आ रही है। ऐसा प्रतीत होता रहा है कि पशु तस्करों के लिए पुलिस प्रशासन का कोई खौफ नही रहा। बल्कि पशु तस्कर पशुओं का वध कर पुलिस को खुली चुनौती दे रहे है। जिले की कई थाना सीमा के अंतगर्त कई गौकशी की ऐसी भी घटनाएं है। जहां आज तक पशु तस्करों के विरूद्ध पुलिस प्रशासन ने कोई कार्यवाई नही की है। कार्यवाई सिर्फ कागजों तक ही सीमित देखी जा सकती है। पशु तस्करों द्धारा निरंतर किए जा रहे पशु वध के उपरांत स्थानीय लोगों व पशु-प्रेमियों में आक्रोश की भावना पनप रही है। सिविल लाइंस थाना क्षेत्र में गोकशी के आरोपी जहां एक तरफ आजाद घूम रहे हैं, ये घटना नई नहीं है। बल्कि गौमांस के तस्करों का पूरा सिंडिकेट इस और काम कर रहा है। समय-समय पर ऐसी घटनाएं उस वक्त सामने आती हैं, जब जल्दबाजी में पशु तस्कर अवशेष मौके पर छोड़ जाते हैं।

दातागंज कोतवाली क्षेत्र के ग्राम केशवपुर कलां में दो गोवशीय पशुओं का सोमवार मध्यरात्रि पशु तस्करों  द्धारा वध कर दिया तथा वध करने के साथ ही वह गोमांस अपने साथ ले गए तथा मृत गोवंश का सिर व अवशेष घटना स्थल पर ही छोड गए। आज सुबह जब ग्रामिण अपने खेत पर पहुंचे तो उन्होने खेत कि उनके खेत पर पशु तस्करों द्धारा गोवध किया है। सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस ने पहुंचकर जांच पडताल भी की। गोवध का ये मामला नया नही है। पशु तस्कर गोवध कर पुलिस को खुली चुनौती दे रहे है। गोमांस की तस्करी का आलम यहां तक है कि होम डिलीवरी की सेवा भी चल रही है। खासकर कादरचौक, उसहैत और कुंवरगांव आदि इलाकों में अक्सर पुलिस होम डिलीवरी करने वाले तस्करों को पकड़ती दिखती है। ये पशु तस्कर फुटकर में गोवंशीय पशुओं का मांच बेचते देखे जा सकते है।

पशु प्रेमी विकेंद्र शर्मा ने पुलिस प्रशासन व आला अधिकारियों को ट्वीट कर पशुओं की तस्करी रोकने व उनका वध करने बाले पशु तस्करों के विरूद्ध कार्यवाई की मांग की है। फिलहाल पशु तस्कर गोवंशीय पशुओं का वध कर पुलिस प्रशासन को खुली चुनौती देने से बाज नही आ रहे है। अव देखना कि पुलिस इन पशु तस्करों के विरूद्धा क्या कार्यवाई करती है। ये तो आने बाला समय ही बतायेगा।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two + 1 =

Back to top button
error: Content is protected !!
E-Paper