वनविभाग की मिलीभगत से चलती हैं रात्रि में कुल्हाड़ी;धडल्ले से होता है अवैध कटान

सरकारी पावंदी के बाद भी हरे आम के पेड़ों का बेदर्दी से कटान, पर्यावरण का नहीं किसी को ध्यान

बुलंदशहर: कृष्णा जी ब्यूरो चीफ

बुलंदशहर
जनपद के सभी तहसील क्षेत्रों में शाम होते ही लकड़ी माफिया सक्रिय हो जाते है
हाल-फिलहाल जनपद के डिबाई क्षेत्र कादरी बाग , पेट्रोल पंप के नजदीक रातों रात हरे पेड़ों का कटान चल रहा है सरकारी वेतनभोगी अधिकारियों ने बदनाम करने की ठान ली है क्षेत्र में रातदिन हरे पेड़ों को लकड़ी ठेकेदारों के द्वारा काटा जा रहा है और वनविभाग के अधिकारियों कुबेर दत्त शर्मा को सूचना देने पर भी कोई कार्यवाही नहीं की जाती कह दिया जाता है आज मैं अभी बाहर हूँ जिससें साफ हो जाता है कि हरे पेड़ो की कटाई होना लकड़ी ठेकेदार वनविभाग के अधिकारियों से साठगांठ हो जाती है पर्यावरण का नहीं किसी को ध्यान, वरना टैक्टर की ट्रोली सड़कों से गुजरती है आसमान से होकर नहीं जाती।


आखिर प्रतिबंध के बाबजूद हरे पेड़ो का कटान क्यों और कैसे हो रहा है जबकि लकड़ी भरकर टैक्टर गुजरते हैं लेकिन कोई वनविभाग आखिर क्यों चुप हैं क्योंकि सभी की हिस्सेदारी तय कर दी जाती है । लकड़ी ठेकेदार के हौसले इतने बुलन्द हैं कि पत्रकार को धमकी देने से भी नहीं डरते हैं और फर्जी रंगदारी मांगने के आरोप में फसाने की धमकी देते हैं जबकि सरकार से आम जनता की कमाई को सरकारी वेतनभोगीp अधिकारी को अपना कर्तव्य निभाने के लिए सरकार वेतन देती है लेकिन फिर भी अधिकारियों की साठगांठ से अवैध पेड़ों का कटान हो जाता है। जिससें जनता में सरकार की छवि खराब हो रही है। सरकारी तंत्र की साठगांठ से अवैध कटान रातदिन हो रहा है। लेकिन वनविभाग के अधिकारियों को इससे पहले भी अवगत कराया जा चुका है लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गयी और यदि जुर्माना वसूला जाता है तो उसमें भी कुछ पेड़ों को दिखाकर खानापूर्ति कर दी जाती है जैसा वनविभाग के हल्का प्रभारी बच्चन सिंह ने खानापूर्ति की

Related Articles

Back to top button
E-Paper