समर इंडिया । SAMAR INDIA

सायला में महिला सरपंच लेकिन काम रिश्तेदार पूर्व उप सरपंच देख रहे -शिकायतों के बाद भी नही हो रही है कार्यवाही

by AMAN KUMAR SIDDHU
0 comment

सायला में महिला सरपंच लेकिन काम रिश्तेदार पूर्व उप सरपंच देख रहे -शिकायतों के बाद भी नही हो रही है कार्यवाही
सायला ग्राम पंचायत का मामला
सायला।
पंचायत समिति क्षेत्र सायला के ग्राम पंचायत में महिला सरपंचो की जगह उनके करीबी रिश्तेदार पंचायतों का काम काज संभाल रहे है। लेकिन इस प्रशासन की कर से कोई ध्यान नही दिया जा है।ग्राम पंचायत में सरपंचों की जगह उनके रिश्तेदारों के दखलंदाजी पर पंचायतीराज विभाग जयपुर के सख्त कार्यवाही के निर्देश भी है। सरकार की ओर से खुला आदेश आया हुआ है कि महिलाओं को उनके पद का कामकाज देखने दिया जाए लेकिन धरातल पर ये नियम हवा में उड़ रहे है या मुख्यालय पर खुद विकास अधिकारी के नाक नीचे पंचायतीराज विभाग के नियमो की धज्जिया उड़ रही है। लेकिन इस और कोई ध्यान नही दिया जा रहा है।

वार्डपंचो ने की हुई है शिकायत
ग्राम पंचायत में सरपंच के करीबी रिश्तेदार पूर्व उपसरपंच विक्रम सिंह की ओर से ग्राम पंचायत सायला का हर काम काज देखा जा रहा है।जिसको लेकर पूर्व सरपंच तथा वार्ड पंच सुरेश राजपुरोहित की ओर से लिखित में विकास अधिकारी को शिकायत भी की गई थी। जिसमे बताया गया था कि सरपंच जेठ तथा सरपंच पति की ओर से महिला सरपंच को इनके स्थान पर काम नही करने दिया जा रहा है। जो नियम विरुद्ध हस्तक्षेप कर रहे है, लेकिन उसके बावजूद भी कागजो में कार्यवाही की गई। और शिकायत पर ध्यान नही दिया गया। जिससे अधिकारियों की भी मिलीभगत हो सकती है।

रेकर्ड हुआ था गायब
सायला ग्राम पंचायत में पूर्व में ग्राम पंचायत में से रेकॉर्ड बुके भी गायब हुई थी। जो पूर्व सरपंच सुरेश राजपुरोहित के कार्यकाल की थी। जिसके बाद तत्कालीन विकास अधिकारी आवड़दान चारण तथा पीईईओ रेशाराम सुंदेशा की से शिकायत के आधार पर जांच करने पर 10 रेकॉर्ड बुके गायब मिली थी। जिसके बावजूद भी इस पर कोई कार्यवाही नही हुई।

एनओसी के बाद आपत्ति
सायला पंचायत में सरपंच रजनी कंवर विभिन्न कार्य के लिए एनओसी देती है।
बाद में सरपंच के जेठ पूर्व उपसरपंच विक्रमसिंह को मालूम होते ही आपत्ति की जाती है।सरपंच जेठ भवन मालिक से अपनी मांग की जाती है।मांग को पूरा नही करने पर पंचायत से नोटिस की देने की बात कहकर डराया जाता है।

0 comment

You may also like

Leave a Comment