समर इंडिया । SAMAR INDIA

(सर्वोच्च न्यायालय के आदेशो की पालिका सफाई कर्मियों द्वारा उड़ाई जा रही हैं| धज्जियाँ)

by Jay Kishan Saini
0 comment

नगरपालिका कर्मचारियों द्वारा सफाई करके एकत्रित किया गया कूड़ा कचरा,पॉलिथीन के ढ़ेर को धड़ल्ले से जलाया जा रहा है|

सहसवान| नगर पालिका परिषद अधिकारियों की लापरवाही के चलते मुख्य बाजार में चौराहे पर तैनात पुलिस बल के सामने ही सफाई कर्मचारियों द्वारा सफाई करके एकत्रित किया गया  कूड़ा कचरा पॉलिथीन के ढ़ेर को धड़ल्ले से जलाया जा रहा है| जिससे जहां सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही हैं| तो वही सफाई कर्मचारियों द्वारा प्रदूषण को जबरदस्त बढ़ावा दिया जा रहा है।

बताया जाता है| बाजार विल्सनगंज चोरहा से नगर पालिका परिषद कार्यालय के सामने जाने वाले मार्ग तथा बाजार विल्सनगंज चौराहे से घास मंडी जाने वाले मार्ग तथा बाजार विल्सनगंज  से पठान टोला चोरहा जाने वाले मार्ग पर सुबह तड़के सफ़ाई कर्मियों द्वारा सफ़ाई के दौरान एकत्रित हुए कूड़े कचरा पॉलिथीन के बड़े बड़े ढ़ेरो में आग लगा कर जहां वातावरण को दूषित किया जा रहा है| तथा कूड़ा कचरा पॉलीथिन के ढ़ेर जलाए जाने से माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेशो की जहाँ खुले आम सफाई कर्मियों द्वारा धज्जियाँ उड़ाई जा रही हैं जिससे बातावरण भी दूषित हो रहा है| 

बताया जाता है| कि उपरोक्त चारो मार्गो पर बीते कुछ दिनों से सफ़ाई कर्मियों द्वारा लगातार धड़ल्ले से कूड़ा करकट बेखौफ होकर जलाया जा रहा हैं| यही नहीं उपरोक्त चोरहे पर पुलिस कर्मियों का भी चौबीस घंटों पहरा रहता है| यही ही नहीं कूछ जागरूक लोगों द्वारा उपरोक्त सफाई कर्मियों से मना भी किया गया की कूड़ा करकट जलाना अपराध है| परंतु उपरोक्त सैफई कर्मियों द्वारा बात मानने से इनकार कर दिया और तो और उन्होंने कहा की पालिका प्रशासन के अधिकारियों ने हमसे तो मना नहीं किया है|

बात यही खत्म नहीं होती सफाई कर्मियों के मेड भी तड़के सुबह सफ़ाई व्यस्था को देखना उचित नहीं समझतै जिससे सफ़ाई कर्मियों के हौसले बुलंद हो रहे है| सफाई कर्मियों द्वारा धड़ल्ले से जलाए जाने वाले कचरा कूड़ा करकट को पालिका प्रशासन के अधिकारियों ने कूड़ा करकट कचरा जलाए जाने से होने वाले नुकसान के बारे में नहीं बताया|

काश: उन्होंने सफाई कर्मियों को बताया होता तो वह कूड़ा करकट कचरा न जलाते  बरहाल अधिकारियों द्वारा सफ़ाई कर्मचारियों को कूड़ा करकट जलाए जाने से होने वाले नुकसान के बारे में बताया होता तो शायद कूड़ा करकट कचरा सफाई कर्मी नहीं जलाते तो माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेशो की धज्जियां न उडती न ही पर्यवारण को कोई नुकसान नहीं होता| बराहल अगर पालिका प्रशासन के अधिकारियों ने सफाई कर्मियों को कूड़ा करकट कचरा जलाए जाने से होंने वाले नुकसान के बारे में न अवगत कराया तो निश्चित सफाई कर्मियों द्वारा जलाए जाने वाले कूड़ा करकट कचरा से वातावरण को खतरा उत्पन्न हो जायेगा|

इस बाबत अधिशासी अधिकारी राम सिंह से मोबाइल पर बात करने का प्रयास किया गया तो मोबाइल से संपर्क नहीं हो सका।

समर इण्डिया ब्यूरो चीफ – जयकिशन सैनी

0 comment

You may also like

Leave a Comment