समर इंडिया । SAMAR INDIA

बैंक अधिकारियों की हटधर्मी एवं मनमानी के चलते नगर पालिका परिषद सहसवान को दिए गए 1975 लक्ष्य के विपरीत मात्र साढ़े पांच सौ वेंडरों को ही पीएम स्वनिधि वेंडर योजना का लाभ मिल सका|

by Jay Kishan Saini
0 comment

सहसवान| बीते 2 साल से कोरोना संकट से जूझ रहे  फुटपाथ दुकानदारों को उनके आय के स्रोत बढ़ाने के उद्देश्य  से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई  पीएम स्वनिधि वेंडर योजना बैंक अधिकारियों की हटधर्मी एवं मनमानी के चलते नगर पालिका परिषद सहसवान को दिए गए 1975 लक्ष्य के विपरीत मात्र साढ़े पांच सौ  वेंडरों को ही सुविधा का  लाभ मिल सका| शेष बैंक शाखाओं के धक्के खाते-खाते वेंडर परेशान हो चुके हैं| अब उन्होंने बैंकों में जाना ही छोड़ दिया है| इससे उपरोक्त योजना का लाभ वेंडरो को नहीं मिल पाने से प्रधानमंत्री पेंशन योजना सहसवान नगर में दम तोड़ती नजर आ रही है। इस संदर्भ में जब बैंक शाखाओं से उनका पक्ष जानने का प्रयास किया तो किसी भी बैंक शाखा  प्रबंधक ने मोबाइल रिसीव करना उचित नहीं समझा|

ज्ञात रहे बीते 2 साल से कोरोना संकट के काल में फुटपाथ पर बैठने वाले वेंडरों को उनकी आर्थिक आय के सुधार के लिए तथा उन्हें पुनः काम करने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्वनिधि बेंडर योजना प्रारंभ की थी| जिसके तहत नगर पालिका परिषद सहसवान में पंजीकृत फुटपाथ के  दुकानदारों को उनको बैंक से बिना गारंटी के दस हज़ार रुपये तक का ऋण उपलब्ध कराने का प्रावधान किया गया था| जिसके लिए नगर पालिका परिषद सहसवान को 1975 वेंडरों को योजना का लाभ देने के लिए लक्ष्य दिया गया था| जिसके सापेक्ष नगर पालिका परिषद सहसवान ने सभी औपचारिकता पूर्ण करते हुए नगर की भारतीय स्टेट बैंक मुख्य शाखा सहसवान, भारतीय स्टेट बैंक शाखा शहबाजपुर, सेंट्रल बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा को सभी 1975 वेंडरों के आवेदन उपलब्ध कराए गए थे| यह पहला मौका है| नगरपालिका प्रशासन ने शासन से मिले 1975 वेंडरों  के लक्ष्यों को  100% लक्ष्य प्राप्त करते हुए 1975 आवेदन  संबंधित बैंकों को भेजकर औपचारिकता पूर्ण कर दी।नगर पालिका परिषद सहसवान से  उन्नीस सौ पिचहत्तर वेंडरों की सूची बैंक शाखाओं को भेजी गई सूची में बैंक शाखा प्रबंधकों ने योजना के प्रारंभ में ही मात्र साढे पांच सौ वेंडरों को ही सुविधा का लाभ दिया| बाकी शेष वेंडरों को आज तक सुविधा का लाभ नहीं मिला|जिसके कारण बेंडर आए दिन बैंक शाखा ,नगर पालिका परिषद सहसवान के धक्के खाते-खाते परेशान हो चुके हैं|

वेंडरों का कहना है| की नगर पालिका परिषद सहसवान ने सभी औपचारिकताएं पूर्ण करते हुए बैंक शाखाओं को आवेदन भेज दिए परंतु बैंक शाखा प्रबंधक यह कहते हैं| मुझे पता नहीं है| कि हमारे  यहां आपका आवेदन की फाइल आई हुई है|  या नहीं अगर फाइल आने की बात स्वीकार कर लेते हैं| तो कहते हैं कि नगर पालिका परिषद का कार्य आवेदन  फाइलों को पूर्ण करके शाखाओं को भेजना था| परंतु यह बैंक प्रबंधक के विवेक पर निर्भर करता है| कि वह  किस आवेदनकर्ताओं को बेंडर ऋण आवेदनकर्ताओं को आवंटित करें| या न करें अगर कोई भी व्यक्ति अपात्र पाया जाता है| तो  बैंक किसी भी कीमत पर लोन स्वीकार नहीं करेगी| अधिकांश वेंडरो का कहना है| की बैंक शाखा प्रबंधक लोन लेने के लिए तारीख पे तारीख देते चले आ रहे हैं परंतु लोन स्वीकृत कर रह है जिससे अधिकांश वेंडरो ने बैंकों में जाना ही छोड़ दिया  है|  अधिकांश बेंडर आज भी बैंकों के धक्के खाते खाते परेशान हो चुके हैं| कई  वेंडरो ने  रोते हुए बताया के प्रधानमंत्री द्वारा शुरू की गई  स्व निधि वेंडर योजना से वह  अपना  पुना अपनी रोजी-रोटी के लिए कार्य प्रारंभ कर देंगे| परंतु बैंक अधिकारियों कर्मचारियों की हट धर्मी मनमानी के चलते हमारा स्व निधि  योजना का देखा गया सपना साकार होते होते रह गया| जिसका हमें बेहद दुख है।

अधिशासी अधिकारी रामसिंह ने जानकारी देते हुए बताया स्व निधि प्रधानमंत्री वेंडर योजना के अंतर्गत जिला प्रशासन से 1975  वेंडरों का लक्ष्य दिया गया था जिसके विपरीत कार्यालय के इतने दिन रात मेहनत करते हुए निर्धारित समय से पूर्व 1975 वेंडरों का शत-प्रतिशत लक्ष्य हासिल करते हुए आवेदन समय अवधि में बैंक शाखाओं को उपलब्ध करा दिए बैंक शाखा प्रबंधकों को निर्देश है कि वह वेंडरो  को ऋण उपलब्ध कराएं  अधिकांश  बैंक शाखा प्रबधको ने वेंडरो को ऋण उपलब्ध करा दिया है| परंतु  शेष बचे आवेदनकर्ताओं  को ऋण क्यों नहीं उपलब्ध कराया गया| इसके बाबत वह बैंक प्रबंधकों से बात करेंगे।

इस बाबत बैंक शाखा प्रबंधकों से उनका पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो अधिकांश बैंक शाखा प्रबंधकों के मोबाइल स्विच ऑफ बताए गए जिसके कारण उनका पक्ष नहीं मिल सका| बरहाल बैंक शाखाओ के कर्मचारियो की हाथधर्मी व मनमानी के चलते प्रधानमंत्री द्वारा कोरोना काल के संकट से उबारने हेतु फुटपाथ के बैंडरो को उभारने के उद्देश्य से शुरू की गई है| स्व निधि  प्रधानमंत्री बेंडर योजना सफलता की चढ़ाई चढ़ने से पूर्व ही अपना दम तोड़ गई जिसकी क्षेत्र में व्यापक चर्चा है|

समर इंडिया ब्यूरो चीफ – जयकिशन सैनी

0 comment

You may also like

Leave a Comment