समर इंडिया । SAMAR INDIA

सहसवान के राजकीय पशु चिकित्सालय पर स्थाई रूप से चिकित्सक न होने के कारण पशु-पालको में भारी रोष|

by Jay Kishan Saini
0 comment

मुख्य पशु चिक्तिसाधिकारी को भेजा पत्र|

सहसवान| राजकीय पशु चिकित्सालय में स्थाई रुप से चिकित्सक न बैठने के कारण पशुपालकों को चिकित्सा का लाभ नहीं मिल पा रहा है| जिससे पशुपालकों को अपने पशुओं को लेकर झोलाछाप पशु चिकित्सकों की शरण में जाना पड़ रहा है| जबकि इन झोलाछाप चिकित्सकों की शरण में आकर दर्जनों पशु मौत के मुंह में समा गए हैं| ऐसी ही शिकायत मुख्य पशु चिकित्सधिकारी बदायूं को प्रेषित क्षेत्रीय पशुपालकों ने की है|

पशु पालकों ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी बदायूं को प्रेषित पत्र में बताया की सहसवान के राजकीय पशु चिकित्सालय पर स्थाई रूप से चिकित्सक न होने के कारण उनके पशुओं का सही तरीके से उपचार नहीं हो पा रहा है| छोटे-मोटे उपचार तो चिकित्सालय पर बैठे हुए कर्मचारी कर देते हैं| परंतु  गंभीर बीमारियों पर उपरोक्त कर्मचारी अपने हाथ खड़े कर लेते हैं| जिसके कारण पशुओं की जान चली जाती है| गंभीर रोग से पीड़ित पशुओं को  उपचार कराने के लिए  हमें झोलाछाप पशु चिकित्सकों की शरण में जाना पड़ता है|  जिसके कारण सही उपचार न मिलने के कारण दर्जनों पशुओं की जान चली गई  अगर पशु चिकित्सा  राजकीय पशु चिकित्सालय में तैनात होते तो उनकी जान बचाई जा सकती थी क्षेत्रीय पशुपालकों ने मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी से सहसवान राजकीय पशु चिकित्सालय में स्थाई रूप से चिकित्सक तैनात किये जाने की मांग की है| जिससे उनके पशुओं को स्वास्थ्य सेवा का लाभ मिल सके।

मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को भेजे गए शिकायती पत्र में इरफान, शमसुल,गिरवर,हुसैनी,शमशेर,भूषण,जहांगीर,जावेद,मारूफ, मोहम्मद मियां, वीर सिंह, रोशन, महावीर, गुलनिशा, छोटी आदि के हस्ताक्षर हैं|

समर इंडिया ब्यूरो चीफ – जयकिशन सैनी

0 comment

You may also like

Leave a Comment