समर इंडिया । SAMAR INDIA

उचितदर विक्रेता द्वारा उपभोक्ताओं के साथ कई वर्षों से किया जा रहा है| शोषण – मुख्यमंत्री को पत्र प्रेषित

by Jay Kishan Saini
0 comment

सहसवान पूर्ति कार्यालय में व्याप्त भ्रष्टाचार रुकने का नाम नहीं ले रहा|

सहसवान| सहसवान पूर्ति कार्यालय में व्याप्त भ्रष्टाचार रुकने का नाम नहीं ले रहा है| इसी कड़ी में दहगवां विकास खंड क्षेत्र के ग्राम मलसई  यूसुफपुर में उचितदर विक्रेता की दबंगई से  उपभोक्ताओं में त्राहि-त्राहि मची हुई है| उपभोक्ता के दर्जनों बार उच्च अधिकारियों से शिकायत के बावजूद उचितदर विक्रेता के हौसले कम होने की वजह बढ़ते ही जा रहे हैं| उपभोक्ताओं ने एक बार पुनः उपभोक्ताओं ने मुख्यमंत्री को पत्र प्रेषित करते हुए दबंग उचितदर विक्रेता  के विरूद्ध कार्यवाही किये जाने की मांग की है।

मुख्यमंत्री को प्रेषित पत्र में  बताया ग्राम मलसई यूसुफपुर के उचितदर विक्रेता मलखान द्वारा बीते कई वर्षों से उपभोक्ताओं को 5 किलो प्रति यूनिट खाद्यान्न के स्थान पर 4 किलो प्रति मिनट खाद्यान्न का वितरण किया जा रहा है| जिसकी शिकायत अनेकों बार स्थानीय व जिला स्तरीय अधिकारियों से की जा चुकी है| परंतु प्रत्येक बार शिकायत को जांच करने की वजह पूर्ति कार्यालय सहसवान द्वारा रद्दी की टोकरी में डाल दिया जाता है| तथा वजह पूछने पर कहा जाता है| आपकी शिकायत झूठी थी| आप स्वयं उचितदर विक्रेता पर दबाव बनाकर ज्यादा खाद्यान्न लेना चाहते हो उचितदर विक्रेता को खाद्यान्न ज्यादा मिलता ही नहीं है| तो  खाद्यान्न आपको कैसे दे यही नहीं ज्यादा कुछ कहने पर पूर्ति कार्यालय के अधिकारियों द्वारा दोबारा कार्यालय में न घुसने की धमकी दे दी जाती है|

उचितदर विक्रेता भी खुलेआम कहता है| कि मुझे प्रतिमाह तहसील सहसवान के अधिकारियों को आर्थिक सेवा करनी पड़ती है| अगर में आर्थिक सेवा नहीं करूंगा तो मेरी दुकान निरस्त हो जाएगी| ज्यादा कुछ कहने पर उचित दर विक्रेता उपभोक्ता के साथ मारपीट करने पर उतारू हो जाता है उसने गांव में कई गुर्गे पाल रखे हैं| जिसके कारण अधिकांश उपभोक्ता उसके खिलाफ जुबान खोलने को तैयार नहीं है| जो  उपभोक्ता उसकी शिकायत करते हैं| उन्हें उचित दर विक्रेता द्वारा राशन कार्ड निरस्त करने की धमकी दी जाती है। उपभोक्ताओं ने मुख्यमंत्री से ग्राम मलसई  यूसुफपुर के उचितदर विक्रेता मलखान की वितरण व्यवस्था जनपद स्तरीय अधिकारी से जांच कराए जाने की मांग की है| जिससे उचितदर विक्रेता द्वारा उपभोक्ताओं के साथ कई वर्षों से किया जा रहा शोषण पर रोक लग सके।

 शिकायती पत्र में राजेंद्र, पूरन ,मानसिंह ,नारायण ,राम सिंह ,मनोहर ,सोनू ,रम्मू, प्रकाश ,कुमारपाल, जयपाल मुन्नालाल, अशोक, संतोष ,धीरेंद्र, लालाराम ,पन्नालाल ,रूकुमपाल सहित अनेक महिला उपभोक्ताओ के हस्ताक्षर हैं। शिकायती पत्र के बाबत जब पूर्ति निरीक्षक नरेंद्र सिंह से सीयूजी नंबर पर बात करने का प्रयास किया गया तो संपर्क नहीं हो सका|

समर इंडिया ब्यूरो चीफ – जयकिशन सैनी

0 comment

You may also like

Leave a Comment