समर इंडिया । SAMAR INDIA

एयर स्ट्राइक पर बोले सिद्धू- क्या वाकई मारे गए 300 आतंकी या केवल पेड़ उखाड़ने गए थे?

by chalunews
0 comment

[ad_1]


पुलवामा हमले का जवाब देते हुए भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की थी. हालांकि अब इस स्ट्राइक पर सवाल उठाने वालों की लिस्ट में कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू भी शामिल हो गए है.

उन्होंने ट्वीट किया, क्या पाकिस्तान में 300 आतंकी मारे गए? हां या नां. अगर नहीं तो इसका मकसद क्या था? क्या आप वहां पर केवल पेड़ उखाड़ने गए थे? क्या ये केवल एक चुनावी नाटक था?

सिद्धू ने आगे कहा, ‘सेना का राजनीतिकरण करना बंद कीजिए. सेना भी देश की तरह ही पवित्र है.’ सिद्धू ने तंज कसते हुए कहा, ‘उंची दुकान फीका पकवान’.

300 terrorist dead, Yes or No?

What was the purpose then? Were you uprooting terrorist or trees? Was it an election gimmick?

Deceit possesses our land in guise of fighting a foreign enemy.

Stop politicising the army, it is as sacred as the state.

ऊंची दुकान फीका पकवान| pic.twitter.com/HiPILADIuW
— Navjot Singh Sidhu (@sherryontopp) March 4, 2019

इससे पहले कांग्रेस के दिग्विजय और पी चिदंबरम जैसे नेता भी एयर स्ट्राइक पर सवाल खड़े कर चुके है. चिदंबरम ने कहा था, हम सरकार के एयर स्ट्राइक के दावे पर भरोसा करने को तैयार हैं, लेकिन पहले ये बताइए कि एयर स्ट्राइक में 300 से 350 आतंकियों के मारे जाने की पुष्टि किसने की? वहीं दिग्विजय सिंह ने कहा था कि ‘मैं एयर स्ट्राइक पर सवाल नहीं खड़े कर रहा, लेकिन यह तकनीकी दौर है. आज कल सैटेलाइट से तस्वीरें लेना मुमकिन है. जैसे अमेरिका ने ‘ओसामा ऑपरेशन’ का सबूत पूरी दुनिया को दिया था, वैसा ही सबूत हमें भी एयर स्ट्राइक का देना चाहिए.’

बता दें 14 फरवरी को हुए पुलवामा हमले के बाद सिद्धु को अपने बयान को लेकर काफी आलोचना झेलनी पड़ी थी. दरअसल पुलवामा हमले पर बात करते हुए सिद्धू ने कहा था, कुछ लोगों की वजह से क्या आप पूरे मुल्क को गलत ठहरा सकते हैं? और क्या इसकी वजह से किसी एक इंसान को दोषी ठहरा सकते हैं. उन्होंने ये भी कहा था कि ये हमला कायरता की निशानी है और जिनकी गलती है उन्हें सजा मिसनी चाहिए.

सिद्धू के इस बयान के बाद उनकी काफी आलोचना हुई थी. उन्हें सोशल मीडिया पर ट्रोल भी किया गया था.

[ad_2]

Source link

0 comment

You may also like

Leave a Comment