समर इंडिया । SAMAR INDIA

Pulwama Attack: सिद्धू ने कंधार का जिक्र कर BJP पर किया तंज, बोले-आतंक को बर्दाश्त नहीं करेंगे

by chalunews
0 comment

[ad_1]


पुलवामा हमले पर पंजाब सरकार में कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot singh Siddhu) के बयान को लेकर काफी हंगामा मचा हुआ है. सोमवार को पंजाब विधानसभा में बजट पेश किया गया. लेकिन बजट पेश करने के दौरान अकाली दल और बीजेपी नेताओं ने सिद्धू के खिलाफ नारेबाजी की जिसके बाद काफी बवाल मचा. हालांकि इन सब के बावजूद सिद्धू का कहना है कि वो अपनी बात पर अडिग हैं.

सिद्धू ने मीडिया से कहा, आतंकवाद को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. जो लोग इस हमले के लिए जिम्मेदार हैं, उन्हें कठोर दंड दिया जाना चाहिए ताकि आने वाली पीढ़ियां इसे याद रखें. उन्होंने ये भी कहा कि वो अपनी बात पर अडिग हैं.

Congress leader Navjot Singh Sidhu: I am firm on my stand. Terrorism will not be tolerated. People who are responsible should be punished harshly that it acts as a deterrence for generations to come. pic.twitter.com/rvx8oGMznF
— ANI (@ANI) February 18, 2019

नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा, मैं पूछना चाहता हूं कि 1999 में कंधार मामले के आरोपियों को किसने छोड़ा? ये किसकी जिम्मेदारी है? हमारी लड़ाई उनके खिलाफ है. हमारे जवान क्यों मारे जाएं. उन्होंने पूछा इस चीज का कोई स्थायी समाधान क्यों नहीं है?

#WATCH Navjot Singh Sidhu says,"I am firm on my stand. Terrorism shouldn’t be tolerated. I want to ask who released those involved in 1999 Kandahar incident? Who’s responsibility is it? Our fight is against them.Why should a soldier die? Why can’t there be a permanent solution?" pic.twitter.com/7Oe73dVqP5
— ANI (@ANI) February 18, 2019

इससे पहले पंजाब विधानसभा में उनके खिलाफ हुए विरोध प्रदर्शन के दौरान जमकर नारेबाजी की गई. अकाली दल ने इमरान खान का चमचा सिद्धू हाय हाय के नारे लगाए. इसके बाद सिद्धू भी भड़क गए और मजीठिया को डाकू कह दिया.

क्या था सिद्धू का बयान?

पुलवामा हमले पर बात करते हुए सिद्धू ने कहा था, कुछ लोगों की वजह से क्या आप पूरे मुल्क को गलत ठहरा सकते हैं? और क्या इसकी वजह से किसी एक इंसान को दोषी ठहरा सकते हैं. उन्होंने ये भी कहा था कि ये हमला कायरता की निशानी है और जिनकी गलती है उन्हें सजा मिसनी चाहिए.

[ad_2]

Source link

0 comment

You may also like

Leave a Comment